CREDIT: INSTAGRAM

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने अपने शुरुआती दिनों की संघर्ष को 2024 के राइजिंग भारत समिट  में साझा किया।

CREDIT: INSTAGRAM

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने अपने पहले फिल्म उद्योग में काम करने के दौरान एक एसिस्टेंट डायरेक्टर के रूप में काम किया।

CREDIT: INSTAGRAM

मल्होत्रा का कहना है कि वह अपने दादा के सैनिक बैकग्राउंड से गहरा जुड़ा है। उन्होंने फिल्म 'शेरशाह' और 'मिशन मजनू' में भारतीय सैनिकों की कहानियां दर्शाई हैं।

CREDIT: KOIMOI

सिद्धार्थ मल्होत्रा का कहना है कि उनके लिए 'माई नेम इज खान' के सेट पर एडी के रूप में काम करना सबसे मूल्यवान सीखने का अनुभव था।

CREDIT: TIMES OF INDIA

करण जौहर ने देखा कि जब दोनों "काजोल मैम या शाहरुख सर की लाइटिंग" का परीक्षण कर रहे थे तो कैमरा और लाइटें मल्होत्रा और धवन पर कैसी दिख रही थीं।

CREDIT: FACEBOOK

सिद्धार्थ मल्होत्रा ने बताया कि अगर उन्होंने उस फिल्म में एडी के रूप में काम करते समय अधिक प्रयास नहीं किए होते, तो उन्हें 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर' फिल्म नहीं मिलती ।