Credit: Amar Ujala

1. बच्चों के साथ मित्रता करें:

जब माता-पिता और शिक्षक मित्रवत होते हैं, तो बच्चे अधिक सहज महसूस करते हैं और अपनी समस्याओं के बारे में आसानी से बात कर सकते हैं।

Credit: eschool news

2. सही कार्य करना सिखाएँ:

बच्चों को छोटी-छोटी बातों पर नाराज़ या परेशान हुए बिना अलग-अलग स्थितियों में कैसे व्यवहार करना है, यह सीखना चाहिए।

Credit: news18

3. बच्चों को प्रेरित रखें:

जब बच्चे कुछ अच्छा करते हैं तो उन्हें प्रोत्साहित करने से वे खुश होते हैं और नई चीज़ें आज़माने के लिए उत्सुक होते हैं।

Credit: dos1.com.ph

4. ध्यान का परिचय दें:

ध्यान बच्चों को शांत और तनावमुक्त महसूस करने में मदद करता है, जिससे वे खुश और कम तनावग्रस्त होते हैं।

Credit: Healthshots

5. ट्रिगर को समझें:

यह जानना महत्वपूर्ण है कि बच्चों को क्या गुस्सा या परेशान करता है, जैसे थका हुआ, भूखा या निराश होना।

Credit: Prabhat khabar

6. खुद को शांत रखने की तकनीक सिखाएँ:

बच्चे गहरी साँस लेकर, 10 तक गिनकर, एक शांतिपूर्ण जगह की कल्पना करके, खुद से सकारात्मक बातें करके या एक पत्रिका में लिखकर शांत होने के तरीके सीख सकते हैं।

Credit: the statesman

7.बातचीत को प्रोत्साहित करें:

बच्चों को बिना किसी डर के अपने विचारों और भावनाओं को माता-पिता और शिक्षकों के साथ साझा करने में सुरक्षित महसूस करना चाहिए।

Credit: NDTV.in

8. नियम और परिणाम तय करें:

स्पष्ट नियम बच्चों को यह जानने में मदद करते हैं कि क्या ठीक है और क्या नहीं। अच्छे कार्यों को प्रोत्साहित करने के लिए सकारात्मक व्यवहार की प्रशंसा की जानी चाहिए।

Credit:matrix math

9. समस्या-समाधान सिखाएँ:

बच्चों को अलग-अलग समाधानों के बारे में सोचकर समस्याओं को हल करना सीखना चाहिए। इससे उन्हें अपनी भावनाओं को बेहतर तरीके से संभालने में मदद मिलती है।

Credit:TV9 Bharatvarsh

10. यदि ज़रूरत हो तो सहायता प्राप्त करें:

यदि कोई बच्चा हमेशा गुस्से में या परेशान रहता है, तो माता-पिता को अतिरिक्त सहायता के लिए डॉक्टर या परामर्शदाता से बात करनी चाहिए।