Chakshu पोर्टल लॉन्च: साइबर खतरों के खिलाफ आपकी रक्षा का साधन, कार्रवाई की योजना जानें

सरकार ने नागरिकों की साइबर सुरक्षा के लिए ‘Chakshu’ नाम से एक नया पोर्टल लॉन्च किया है। अगर किसी कोई भी साइबर ठगी का शिकार होता है, तो उसे ठगी की रिपोर्ट Chakshu पोर्टल पर 30 दिन के भीतर कर सकता है। यह नया प्लेटफ़ॉर्म Sanchar Saathi पोर्टल में एक नए optionके रूप में जोड़ा गया है।

Chakshu पोर्टल लॉन्च
credit: Shutterstock

Chakshu पोर्टल क्या है

साइबर अपराध के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए, भारत सरकार ने संचार साथी पहल के तहत Chakshu portal लॉन्च किया है। यह पोर्टल नागरिकों को साइबर अपराध, गलत इरादे से की गई कॉल(Fraud Calls), पैसों से जुड़ी धोखाधड़ी , SMS या WhatsApp के जरिए किए गए मैसेज को रिपोर्ट करने की सुविधा प्रदान करता है, जिससे telecom fraud से प्रभावी ढंग से निपटने में मदद मिलती है।

लीक हुए फोन नंबरों और धोखाधड़ी वाले संचार के बढ़ते मामलों के साथ, Chakshuपोर्टल डिजिटल संपत्तियों और व्यक्तिगत जानकारी की सुरक्षा में एक महत्वपूर्ण उपकरण के रूप में कार्य करता है।

केंद्र सरकार द्वारा launch किए गए Chakshu प्लेटफॉर्म का उद्देश्य Spam messages या call पर अंकुश लगाना, phishing प्रयासों को रोकना और धोखाधड़ी गतिविधियों से जुड़े नंबरों को ब्लॉक करना है। Chakshu पोर्टल Users को धोखाधड़ी की घटनाओं को आसानी से रिपोर्ट करने में सक्षम बनाता है, जो खुद को और दूसरों को साइबर फ्रॉड का शिकार होने से बचाने के लिए एक मंच प्रदान करता है।

Chakshu के माध्यम से संदिग्ध गतिविधियों की रिपोर्ट करके, उपयोगकर्ता सुरक्षित डिजिटल वातावरण में योगदान कर सकते हैं और कानूनी एजेंसियों को साइबर अपराध से निपटने में मदद कर कर सकेंगे I

केंद्रीय Telecom और IT Minister Ashwini Vaishnav ने कहा, “Chakshu भारतीय नागरिकों को धोखाधड़ी वाले संचार की रिपोर्ट करने की अनुमति देगा, चाहे call या SMS या WhatsApp जैसे सोशल मीडिया पर प्राप्त हो। एक बार ऐसी जानकारी प्राप्त होने पर, प्लेटफ़ॉर्म re-verification शुरू कर देगा, और re-verification के विफल होने पर नंबर काट दिया जाएगा।”

Chakshu प्लेटफ़ॉर्म re-verification

इस बीच सरकार डिजिटल इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म (DIP) के जरिए बैंकों, सोशल मीडिया और अन्य प्लेटफॉर्म पर होने वाले साइबर अपराधों को रोकने की कोशिश कर रही है. संचार मंत्री Ashwini Vaisgnaw ने दोनों प्लेटफॉर्म लॉन्च करते हुए कहा कि ये पोर्टल न केवल धोखाधड़ी को रोकने में बल्कि दोषियों को पकड़ने में भी मदद करेंगे।

उन्होंने यह भी बताया कि प्लेटफॉर्म पहले ही 1,008 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी को रोकने में सफल रहे हैं। संदिग्ध धोखाधड़ी संचार के कुछ उदाहरणों में बैंक अकाउंट, पेमेंट वॉलेट, सिम, गैस कनेक्शन, इलेक्ट्रिसिटी कनेक्शन, केवाईसी अपडेट, एक्सपायरी, डिएक्टिवेट, सेक्सटॉर्शन शामिल होगा।

Chakshu पोर्टल के लाभ

Chakshu पोर्टल उपयोगकर्ताओं और व्यापक समुदाय को कई लाभ प्रदान करेगा। सबसे पहले, यह धोखाधड़ी की रिपोर्ट करने के लिए एक नियमित प्रक्रिया प्रदान करेगा, इसके अलावा यह भी सुनिश्चित करेगा कि घटनाओं का तुरंत समाधान किया जाए।

इसके अलावा, पोर्टल साइबर fraud के बारे में जागरूकता को बढ़ाएगा और उपयोगकर्ताओं को धोखाधड़ी वाली योजनाओं का शिकार होने से बचने और पहचानने के बारे में शिक्षित करेगा ।

इसके अलावा, fraud कॉल और messages की रिपोर्टिंग की सुविधा प्रदान करके, Chakshu पोर्टल, financial losses को कम करने और व्यक्तियों को संभावित नुकसान से बचाने में मदद करेगा ।

Chakshu पोर्टल और भारत में साइबर अपराध

भारत में बीते कुछ वर्षों में में financial frauds से लेकर data breach और identity theft तक जैसे साइबर अपराध में एक बड़े  पैमाने पर वृद्धि देखी गई है। National Cybercrime portal की रिपोर्ट के अनुसार, 2023 में, भारत में प्रति 1 लाख नागरिकों पर 129 साइबर अपराध की कुल दर देखी गई।

2023 में,Delhi में भारत के सभी राज्यों और union territories की तुलना में सबसे अधिक साइबर अपराध की शिकायतें दर्ज की गईं, प्रति 100,000 लोगों पर 755 मामले दर्ज किए गए। यह data Indian Cyber crine coordination centre (I4C) के CEO Rajesh Kumar ने हाल ही में साझा किया था।

यह आंकड़े साइबर crimes के संबंध में प्राप्त शिकायतों की संख्या को दर्शाता है, जो देश में ऐसे अपराधों की व्यापकता को उजागर करता है। डेटा साइबर आपराधिक गतिविधियों का शिकार होने से रोकने के लिए मजबूत साइबर सुरक्षा उपायों और नागरिकों के बीच जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता को रेखांकित करता है।

Chakshu पोर्टल उपयोगकर्ताओं को धोखाधड़ी को रिपोर्ट करने और साइबर अपराध से निपटने के प्रयासों में law enforcement एजेंसियों की सहायता करने के लिए सशक्त बनाकर इन चुनौतियों का समाधान करने में अहम भूमिका निभाता है।

Collaborative efforts और innovative technology के उपयोग के माध्यम से, भारत अपने नागरिकों को साइबर खतरों से बचाने और सभी के लिए एक सुरक्षित डिजिटल ecosystem बनाने के लिए सक्रिय कदम उठा रहा है।

Chaksu पोर्टल कार्रवाई की योजना जानें: Step by Step guide

आइये Chakshu पोर्टल पर शिकायत दर्ज करने की के तरिके को detailed step by step guide के ज़रिये जानते है

Chakshu पोर्टल लॉन्च: homepage

सबसे पहले संचार साथी पोर्टल की वेबसाइट पर जाना होगा I Google पर टाइप करें www.sancharsathi.gov.in और दिखाए हुए search रिजल्ट पर क्लिक करें I

8 1

उसके बार वेबसाइट के होमपेज पर पर आप पूछ जायेंगे I Homepage पर टॉप राइट में आपको CitizenCentric Services का ऑप्शन नज़र आएगा उस पर आपको क्लिक करना होगा I

9

उसके बाद अब आपको Reports Suspected Fraud Communications पर टैप करना होगा I

10

अब Continue for reporting पर टैप करना होगा I

11

Continue for reporting पर टैप या क्लिक लड़ने के बाद एक नया page open हो जायेगा I अब यहाँ आपको Call, SMS, WhatsApp में से किसी एक ऑप्शन को सेलेक्ट करना होगा, जिसके जरिए धोखाधड़ी हुई है

12

अब यहाँ आपकोदिए गए अलग अलग options में से एक कैटेगरीअपने साथ हो रहे या हुए फ्रॉड अनुसार सेलेक्ट करनी होगी I

13

अगले Step में आपको अपने साथ हुए या हो रहे फ्रॉड की detail का स्क्रीनशॉट attach करना होगा, जिसकाmaximum साइज 1 MB तक ही होना ज़रूरी है I

Blog Post Image Template 2 1

अगले step में आपको वह date और time सेलेक्ट करना होगा जब आपके साथ यह फ्रॉड हुआ I

16

अगले step में आपको अपने साथ हुए फ्रॉड को detail में लिखना होगा I इस में आपके पास 500 characters तक की max. limit प्रदान की गई है I

17

अब अगला स्टेप personal details का होगा जिसमें आपको अपना firstऔर last नाम और mobile नंबर को एंटर करना होगा I

18

अब आखरी step में आपको captcha एंटर करने के बाद Otp verification करना होगा जिसके बाद आपकी रिपोर्ट दर्ज हो जाएगी I

Chakshu पोर्टल पर रिपोर्ट दर्ज करने के बाद सर्कार क्या एक्शन लेगी

Chakshu पोर्टल पर धोखाधड़ी की रिपोर्ट करने पर सरकार कार्रवाई करेगी, और पुलिस, बैंक और अन्य जांच एजेंसियां तत्परता से काम में ली जाएंगी। शिकायत के कुछ ही घंटों बाद कार्रवाही भी आरंभ होगी। घटना की पूरी जांच की जाएगी और धोखाधड़ी से जुड़े नंबर को तुरंत block कर दिया जाएगा।

Conclusion

अंत में हम यही कह सकते हैं कीसरकार द्वारा Chakshu पोर्टल का शुभारंभ भारत में साइबर सुरक्षा बढ़ाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। यह प्लेटफ़ॉर्म नागरिकों को धोखाधड़ी वाले कॉल और संदेशों जैसे साइबर अपराधों की रिपोर्ट करने का अधिकार देता है, जो सुरक्षित डिजिटल वातावरण में योगदान देता है।

Chakshu के माध्यम से उपयोगकर्ताओं और कानून प्रवर्तन एजेंसियों के बीच सहयोग में साइबर अपराधों से प्रभावी ढंग से निपटने की क्षमता है। इसके अतिरिक्त, डिजिटल इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म के साथ Chakshu पोर्टल का एकीकरण साइबर अपराधों को रोकने और संबोधित करने की देश की क्षमता को और मजबूत करता है। इन पहलों के साथ, भारत अपने नागरिकों और डिजिटल संपत्तियों को साइबर अपराध के बढ़ते खतरों से बचाने के लिए सक्रिय कदम उठा रहा है।