साइबर सुरक्षा क्या है: 6 best साइबर सुरक्षा के उपाय

आज के Digitized ज़माने में जब हम मुख्य रूप से online शिफ्ट हो रहे हैं, इसलिए हमारे data और जानकारी को सुरक्षित रखना बहुत महत्पूर्ण हो जाता है। आपने अक्सर सुना होगा कि लोगो के साथ अलग-अलग प्रकार में online fraud हो गया है, या हमने हाल ही में काफी खबरों में सुना है कि लोगो का डेटा ऑनलाइन लीक हो गया है। सारे खतरों से बचने के लिए हमें Cyber security / साइबर सुरक्षा की जरूरत पड़ती है।

अब सवाल ये उठता है कि साइबर सुरक्षा क्या है? और साइबर सुरक्षा के उपाय क्या है? आइये साइबर सुरक्षा/Cybersecurity और उसके उपाय के बारे में विस्तार से जानते हैं।

साइबर सुरक्षा

साइबर सुरक्षा क्या है? What is Cyber security?

साइबर सुरक्षा / Cybersecurtity का मूल रूप से objective है digital सुरक्षा। ये हमारे कंप्यूटर सिस्टम, डिजिटल इंफॉर्मेशन, नेटवर्क्स को online होने वाले हमलो से बचाता है। साइबर सुरक्षा की मदद से हम अपना डेटा सुरक्षित रख सकते हैं।

इसके लिए हम अलग-अलग उपकरण तैयार करते हैं ताकि सुरक्षा को सही तरीके से लागू किया जा सके। साइबर सुरक्षा या Cyber Security  केवल व्यक्तिगत users के लिए ही नहीं है बाल्की ये businesses, सकारी agencies और अन्य संस्थाओ को भी पूरी तरह से सुरक्षित रखने का काम करती हैं।

साइबर सुरक्षा क्यू है जरूरी?

पिछले दशक से लेकर अब तक हमने दुनिया की काफी बड़ी – बड़ी कंपनियों को साइबर अपराध / Cyber crime का शिकार होते सुना, जैसे कि yahoo (3 अरब अकाउंट लीक), Microsoft (60,000 कंपनियां affected), facebook (530 million users data leak), Twitter(x) डेटा breach (400 million), whatsapp data breach (500 million users)।

इंडिया की बात करे तो हमारे देश में भी कुछ सालो में पिशिंग, हैकिंग, आइडेंटिटी थेफ्ट जैसे साइबर अपराध के मामले बड़े पैमाने पर सामने आए हैं, केवल 2023 में ही भारत में साइबर अपराध के 1.56 million रजिस्टर्ड मामले सामने आए हैं।

जब भी हम online लेनदेन करते हैं, अपने accounts तक पहुंच बनाने की कोशिश करते हैं, या कोई अपनी निजी जानकारी/personal information उपलब्ध करते हैं, तब ये साइबर सुरक्षा हमें एक वर्चुअल शील्ड(virtual shield) की तरह सुरक्षा प्रदान करती है और हमारे डेटा को सुरक्षित रखने में मदद करती है।

बिना साइबर सुरक्षा के हमारे डेटा हैकर्स के लिए खुला रहता है जिसकी वजह से नुक्सान होना के खतरा हमेशा मंडराता है। आज की दुनिया में जहां हम तकनीकी तौर पर तेजी से आगे बढ़ रहे हैं, वहां साइबर सुरक्षा एक नए रूप में हमारी digital सुरक्षा का ख्याल रख रही है।

साइबर सुरक्षा के 6 best उपाय

इन 6 best साइबर सुरक्षा उपाय को अपनाकर, आप अपनी डिजिटल सुरक्षा को मजबूत कर सकते हैं और एक सुरक्षित ऑनलाइन वातावरण बना सकते हैं। चिंता मुक्त ऑनलाइन अनुभव का आनंद लेने के लिए अपनी डिजिटल दुनिया की सुरक्षा में सक्रिय रहें और इन उपायों को अपनाये।

  • फ़ायरवॉल के उपयोग
  • एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर
  • मजबूत प्रमाणीकरण
  • डेटा एन्क्रिप्शन
  • नियमित सॉफ्टवेयर update
  • बैकअप और रिकवरी
साइबर सुरक्षा के 6 best उपाय

फ़ायरवॉल क्या है?

साइबर सुरक्षा में फ़ायरवॉल/firewall का इस्तेमल नेटवर्क ट्रैफिक को मॉनिटर और control करने के लिए होता है। ये वो नेटवर्क security device / software है जो नेटवर्क और डेटा को किसी भी प्रकार के unauthorized access से बचाता है।

फ़ायरवॉल का इस्तमाल व्यक्तिगत स्तर पर भी होता है और इस्का उपयोग बड़ी- बड़ी  business कंपनियाँ भी करती हैं। काफी सारे डिवाइस जैसे कि Mac, windows और linux computers इनबिल्ट फ़ायरवॉल के साथ ही आते है।

फ़ायरवॉल हर प्रकार में उपलब्ध होता है जैसे फिजिकल हार्डवेयर, डिजिटल सॉफ्टवेयर या सर्विस के तौर पर, या एक वर्चुअल प्राइवेट क्लाउड के तौर पर।

एंटीवायरस क्या है?

एंटीवायरस / Antivirus एक वो सॉफ़्टवेयर है जिसका उपयोग कंप्यूटर में virus, worm या malware जैसे खतरों के बचने के लिए किया जाता है। जब भी हम एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को अपने device में इंस्टॉल करते हैं, तो ज़्यादातार सॉफ़्टवेयर बैकग्राउंड में स्वचालित रूप से चलता है और हमारे डिवाइस को real-time समय सुरक्षा प्रदान करते हैं।

व्यापक वायरस सुरक्षा कार्यक्रम हमको ना सिर्फ मैलवेयर, स्पाइवेयर, वर्म्स जैसे खतरों से बचाता है बाकी वो अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करता है जैसे कि वेबसाइट ब्लॉकिंग और customizable फ़ायरवॉल।

मजबूत प्रमाणीकरण का मतलब क्या होता है?

Strong Authentication या मजबूत प्रमाणीकरण एक वो साइबर सुरक्षा का उपाय है जिसमें हम 2 या उससे ज्यादा तरीका  से account को एक्सेस करने के लिए वेरिफाई करते हैं। जैसे कि पासवर्ड के साथ हम एक और सुरक्षा फीचर का add होना, जैसे कि Otp, Security question, या biometric। ये हमारे अकाउंट्स को हैकर्स से  बचने में काफी कारगर साबित होते हैं।

डेटा एन्क्रिप्शन क्या है?

डेटा एन्क्रिप्शन / Data encryption वो होता है जिसे हम डेटा को code में बदल देते हैं। ऐसा करने से सिर्फ authorized लोग ही उस data को पड़ सकते । कोई भी ऐसी जानकारी जिसे हम इंटरनेट पर स्टोर कर के रखते हैया भेजते हैं, डेटा एन्क्रिप्शन के ज़रिये हम उसे secure व सुरक्षित  है । एन्क्रिप्शन / encryption के बिना हमारे data या जानकारी को हैकर्स आसानी से चुरा सकते हैं।


सॉफ्टवेयर अपडेट का मतलब क्या होता है?

इसका मतलब यह है कि आप अपने डिवाइस में सॉफ्टवेयर को regular intervals पर अपडेट करते रहें। ये अपडेट, security के नए features और bugs को फिक्स करने के लिए होते हैं। अपने डिवाइस में सॉफ्टवेयर के अपडेट regular intervals पर इंस्टॉल करना इसलिए जरूरी है क्योंकि ये आपके सिस्टम को हैकर्स और मैलवेयर से बचते  है और overall performance को भी improve करते हैI

बैकअप और रिकवरी क्या है?

बैकअप / backup और रिकवरी / recovery दोनों ही साइबर सिक्योरिटी में महत्तवपूर्ण होते हैं। बैकअप data को सुरक्षित राखने का वो तरीका है जिसमें हम data को अलग अलग जगह या स्टोरेज devices में स्टोर कर देते है , ताकि अगर original dataको कहीं नुकसान हो, तो बैकअप से डेटा फिर से प्राप्त किया जा सके।

Recovery, दोबारा डेटा को मूल स्थिति में लाने की प्रक्रिया है, जिसे बैकअप से कर सकते हैं।  यह दोनों प्रक्रिया data को नुकसान और हैकिंग से बचने में मदद करती हैI 

इसे भी पढ़ें :

वॉलीबॉल के बारे में जानकारी : 10 नियम

RESUME KAISE BANAYE: 7 आसान STEPS में!

Conclusion

इस आर्टिकल में ‘साइबर सुरक्षा’ का महत्व है और इसके 6 उपायों पर रोशनी डाली गई है। भारत में भी साइबर सुरक्षा / cyber security का महत्व दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है, हमारे डिजिटल जीवन को सुरक्षित बनाने के लिए, हमें सही और एक स्वस्थ तरीके से योगदान देना जरूरी है। इसके लिए, हमें साइबर सुरक्षा के उपायों को अपनाना चाहिए।

ये उपाय जैसे मजबूत password का इस्तेमल करना, regularly सॉफ्टवेयर अपडेट करना, phishing और मैलवेयर से बचाव के तरीके अपनाना, और नियमित बैकअप लेना, हमारे ऑनलाइन अनुभव को सुरक्षित बनाने में मदद करते हैं। इस प्रकार, साइबर सुरक्षा को समझना और हमें अमल में लाना, एक जरूरी कदम है जो हम सबको लेना चाहिए, ताकि हमारे डिजिटल जीवन को खतरे से बचाया जा सकेI